beto-wali-vidhwa-premchand-ki-kahaniya

बेटोंवाली विधवा — मुंशी प्रेमचंद

पंडित अयोध्यानाथ का देहांत हुआ तो सबने कहा, ईश्वर आदमी की ऐसी ही मौत दे। चार जवान बेटे थे, एक लड़की। चारों लड़कों के विवाह हो चुके थे, केवल लड़की …

पूरा पढ़े

ईदगाह — मुंशी प्रेमचंद

रमजान के पूरे तीस रोजों के बाद ईद आयी है। कितना मनोहर, कितना सुहावना प्रभाव है। वृक्षों पर अजीब हरियाली है, खेतों में कुछ अजीब रौनक है, आसमान पर कुछ …

पूरा पढ़े
phanishwar-nath-renu-ki-kahaniya-red-papers

पंचलाईट/पंचलैट (ठुमरी)— फणीश्वरनाथ रेणु

पिछले पन्द्रह दिनों से दंड-जुरमाने के पैसे जमा करके महतो टोली के पंचों ने पेट्रोमेक्स खरीदा है इस बार, रामनवमी के मेले में। गाँव में सब मिलाकर आठ पंचायतें हैं। …

पूरा पढ़े

दो बैलों की कथा — मुंशी प्रेमचंद

जानवरों में गधा सबसे ज्यादा बुध्दिहीन समझा जाता है। हम जब किसी आदमी को पल्ले दर्जे का बेवकूफ कहना चाहते हैं, तो उसे गधा कहते हैं। गधा सचमुच बेवकूफ है, …

पूरा पढ़े
पूस-की-रात-—-मुंशी-प्रेमचंद

पूस की रात — मुंशी प्रेमचंद

हल्कू ने आकर स्त्री से कहा — “सहना आया है, लाओ, जो रुपए रखे हैं, उसे दे दूँ, किसी तरह गला तो छूटे।” मुन्नी झाड़ू लगा रही थी। पीछे फिर …

पूरा पढ़े
vilasi-sarata

विलासी — शरतचन्द्र चट्टोपाध्याय

पक्का दो कोस रास्ता पैदल चलकर स्कूल में पढ़ने जाया करता हूँ। मैं अकेला नहीं हूँ, दस-बारह जने हैं। जिनके घर देहात में हैं, उनके लड़कों को अस्सी प्रतिशत इसी …

पूरा पढ़े
anupama-ka-prem-sarat

अनुपमा का प्रेम — शरतचंद्र चट्टोपाध्याय

ग्यारह वर्ष की आयु से ही अनुपमा उपन्यास पढ़-पढ़कर मष्तिष्क को एकदम बिगाड़ बैठी थी। वह समझती थी, मनुष्य के हृदय में जितना प्रेम, जितनी माधुरी, जितनी शोभा, जितना सौंदर्य, …

पूरा पढ़े
namak-ka-daroga-red-papers

नमक का दारोगा — मुंशी प्रेमचंद

जब नमक का नया विभाग बना और ईश्वर प्रदत्त वस्तु के व्यवहार करने का निषेध हो गया तो लोग चोरी-छिपे इसका व्यापार करने लगे। अनेक प्रकार के छल-प्रपंचों का सूत्रपात …

पूरा पढ़े
bade-ghar-ki-beti-munshi-premchand

बड़े घर की बेटी — मुंशी प्रेमचंद

बेनीमाधव सिंह गौरीपुर गाँव के जमींदार और नम्बरदार थे। उनके पितामह किसी समय बड़े धन-धान्य संपन्न थे। गाँव का पक्का तालाब और मंदिर जिनकी अब मरम्मत भी मुश्किल थी, उन्हीं …

पूरा पढ़े