vilasi-sarata

विलासी — शरतचन्द्र चट्टोपाध्याय

पक्का दो कोस रास्ता पैदल चलकर स्कूल में पढ़ने जाया करता हूँ। मैं अकेला नहीं हूँ, दस-बारह जने हैं। जिनके घर देहात में हैं, उनके लड़कों को अस्सी प्रतिशत इसी …

पूरा पढ़े
anupama-ka-prem-sarat

अनुपमा का प्रेम — शरतचंद्र चट्टोपाध्याय

ग्यारह वर्ष की आयु से ही अनुपमा उपन्यास पढ़-पढ़कर मष्तिष्क को एकदम बिगाड़ बैठी थी। वह समझती थी, मनुष्य के हृदय में जितना प्रेम, जितनी माधुरी, जितनी शोभा, जितना सौंदर्य, …

पूरा पढ़े