उस पार का योगी — जयशंकर प्रसाद

सामने सन्ध्या-धूसरति जल की एक चादर बिछी है। उसके बाद बालू की बेला है, उसमें अठखेलियाँ करके लहरों ने सीढ़ी बना दी है। कौतुक यह है कि उस पर भी …

पूरा पढ़े

इंद्रजाल — जयशंकर प्रसाद

गाँव के बाहर, एक छोटे-से बंजर में कंजरों का दल पड़ा था। उस परिवार में टट्टू, भैंसे और कुत्तों को मिलाकर इक्कीस प्राणी थे। उसका सरदार मैकू, लम्बी-चौड़ी हड्डियोंवाला एक …

पूरा पढ़े

आकाशदीप — जयशंकर प्रसाद

“बन्दी!” “क्या है? सोने दो।” “मुक्त होना चाहते हो?” “अभी नहीं, निद्रा खुलने पर, चुप रहो।” “फिर अवसर न मिलेगा।” “बड़ा शीत है, कहीं से एक कम्बल डालकर कोई शीत …

पूरा पढ़े

आँधी — जयशंकर प्रसाद

चंदा के तट पर बहुत-से छतनारे वृक्षों की छाया है, किन्तु मैं प्राय: मुचकुन्द के नीचे ही जाकर टहलता, बैठता और कभी-कभी चाँदनी में ऊँघने भी लगता। वहीं मेरा विश्राम …

पूरा पढ़े

अशोक — जयशंकर प्रसाद

पूत-सलिला भागीरथी के तट पर चन्द्रालोक में महाराज चक्रवर्ती अशोक टहल रहे हैं। थोड़ी दूर पर एक युवक खड़ा है। सुधाकर की किरणों के साथ नेत्र-ताराओं को मिलाकर स्थिर दृष्टि …

पूरा पढ़े

अमिट स्मृति — जयशंकर प्रसाद

फाल्गुनी पूर्णिमा का चन्द्र गंगा के शुभ्र वक्ष पर आलोक-धारा का सृजन कर रहा था। एक छोटा-सा बजरा वसन्त-पवन में आन्दोलित होता हुआ धीरे-धीरे बह रहा था। नगर का आनन्द-कोलाहल …

पूरा पढ़े

अपराधी — जयशंकर प्रसाद

वनस्थली के रंगीन संसार में अरुण किरणों ने इठलाते हुए पदार्पण किया और वे चमक उठीं, देखा तो कोमल किसलय और कुसुमों की पंखुरियाँ, बसन्त-पवन के पैरों के समान हिल …

पूरा पढ़े
anbola-jayshankar-prasad

अनबोला — जयशंकर प्रसाद

उसके जाल में सीपियाँ उलझ गयी थीं। जग्गैया से उसने कहा, “इसे फैलाती हूँ, तू सुलझा दे।” जग्गैया ने कहा, “मैं क्या तेरा नौकर हूँ?” कामैया ने तिनककर अपने खेलने …

पूरा पढ़े
aghori-ka-moh-jayshankar-prasad

अघोरी का मोह — जयशंकर प्रसाद

“आज तो भैया, मूँग की बरफी खाने को जी नहीं चाहता, यह साग तो बड़ा ही चटकीला है। मैं तो….” “नहीं-नहीं जगन्नाथ, उसे दो बरफी तो जरूर ही दे दो।” …

पूरा पढ़े