यह मेरी मातृभूमि है — मुंशी प्रेमचंद

नाग-पूजा — मुंशी प्रेमचंद

प्रातःकाल था। आषाढ़ का पहला दौंगड़ा निकल गया था। कीट-पतंग चारों तरफ रेंगते दिखायी देते थे। तिलोत्तमा ने वाटिका की ओर देखा तो वृक्ष और पौधे ऐसे निखर गये थे …

पूरा पढ़े
यह मेरी मातृभूमि है — मुंशी प्रेमचंद

लोकमत का सम्मान — मुंशी प्रेमचंद

बेचू धोबी को अपने गाँव और घर से उतना ही प्रेम था, जितना प्रत्येक मनुष्य को होता है। उसे रूखी-सूखी और आधे पेट खाकर भी अपना गाँव समग्र संसार से …

पूरा पढ़े
यह मेरी मातृभूमि है — मुंशी प्रेमचंद

सुहाग की साड़ी — मुंशी प्रेमचंद

यह कहना भूल है कि दाम्पत्य-सुख के लिए स्त्री-पुरुष के स्वभाव में मेल होना आवश्यक है। श्रीमती गौरा और श्रीमान् कुँवर रतनसिंह में कोई बात न मिलती थी। गौरा उदार …

पूरा पढ़े
यह मेरी मातृभूमि है — मुंशी प्रेमचंद

प्रारब्ध — मुंशी प्रेमचंद

लाला जीवनदास को मृत्युशय्या पर पड़े 6 मास हो गये हैं। अवस्था दिनोंदिन शोचनीय होती जाती है। चिकित्सा पर उन्हें अब जरा भी विश्वास नहीं रहा। केवल प्रारब्ध का ही …

पूरा पढ़े
यह मेरी मातृभूमि है — मुंशी प्रेमचंद

विस्मृति — मुंशी प्रेमचंद

चित्रकूट के सन्निकट धनगढ़ नामक एक गाँव है। कुछ दिन हुए वहाँ शानसिंह और गुमानसिंह दो भाई रहते थे। ये जाति के ठाकुर (क्षत्रिय) थे। युद्धस्थल में वीरता के कारण …

पूरा पढ़े
यह मेरी मातृभूमि है — मुंशी प्रेमचंद

महातीर्थ — मुंशी प्रेमचंद

मुंशी इंद्रमणि की आमदनी कम थी और खर्च ज्यादा। अपने बच्चे के लिए दाई का खर्च न उठा सकते थे। लेकिन एक तो बच्चे की सेवा-शुश्रूषा की फ़िक्र और दूसरे …

पूरा पढ़े
यह मेरी मातृभूमि है — मुंशी प्रेमचंद

दो भाई — मुंशी प्रेमचंद

प्रातःकाल सूर्य की सुहावनी सुनहरी धूप में कलावती दोनों बेटों को जाँघों पर बैठा दूध और रोटी खिलाती। केदार बड़ा था, माधव छोटा। दोनों मुँह में कौर लिये, कई पग …

पूरा पढ़े
यह मेरी मातृभूमि है — मुंशी प्रेमचंद

वैर का अंत — मुंशी प्रेमचंद

रामेश्वरराय अपने बड़े भाई के शव को खाट से नीचे उतारते हुए भाई से बोले — “तुम्हारे पास कुछ रुपये हों तो लाओ, दाह-क्रिया की फिक्र करें, मैं बिलकुल खाली …

पूरा पढ़े
यह मेरी मातृभूमि है — मुंशी प्रेमचंद

फातिहा — मुंशी प्रेमचंद

सरकारी अनाथालय से निकलकर मैं सीधा फौज में भरती किया गया। मेरा शरीर हृष्ट-पुष्ट और बलिष्ठ था। साधारण मनुष्यों की अपेक्षा मेरे हाथ-पैर कहीं लम्बे और स्नायुयुक्त थे। मेरी लम्बाई …

पूरा पढ़े
यह मेरी मातृभूमि है — मुंशी प्रेमचंद

जिहाद — मुंशी प्रेमचंद

बहुत पुरानी बात है। हिंदुओं का एक काफ़िला अपने धर्म की रक्षा के लिए पश्चिमोत्तर के पर्वत-प्रदेश से भागा चला आ रहा था। मुद्दतों से उस प्रांत में हिंदू और …

पूरा पढ़े